Uncategorized

बहोत ही प्यारी कहानी है!

एक बार एक वकील कोर्ट में भारत के 46 स्वतंत्र सेनानियों की केस लड़ रहे थे जिन्हें अंग्रेजोनो फांसी की सजा सुनवाई थी!

उसी दौरान एक कर्मचारी उस वकील को एक छोटी चिट्ठी देके चला जाता है। वकील उस चिट्ठी को पढ़कर बाजूमें रख देता है और अपनी बहस जारी रखता है। कोर्ट की कार्यवाही खत्म होने के बाद जज उस वकील से पूछते है कि उस चिट्री में क्या लिखा है! वकील कहता है कि ये मेरे पत्नी के निधन का समाचार था ! ये सुनकर आश्चर्य से जज ने पूछा चिट्ठी मिलते ही तुम उसके पास क्यो नही गए ! तब वकील बोले ” मेरी पत्नी तो मर चुकी है मैं चाहकर भी उसे वापस नही ला सकता लेकिन अगर मैं उसके पास जाता तो इन 46 बेकुसूर लोगों की जान चली जाती” कोर्ट के कार्यवाही के आखिर में फैसला आया जिसमे सारे 46 सेनानी निरपराध साबित हुए जो सिर्फ उस वकील के कारण संभव हुआ था !

उस वकील का नाम था सरदार वल्लभभाई पटेल भारत का लौहपुरुष! आपको दिल से सलाम ! और हमारे देश की गन्दी मीडिया गंदगी ढूंढने में लगी पड़ी हे जिसके पास इस जैसी घटना दिखाने के लिए समय नही !

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *